नई दिल्ली/भाषा। कोरोना वायरस के संक्रमण से निपटने के लिए देशव्यापी बंद के बीच रक्षा मंत्रालय ने बृहस्पतिवार को कहा कि वह अपने सेवानिवृत्त जवानों को एकजुट कर रहे हैं ताकि राज्य और जिला स्तर या जहां कहीं भी जरूरत हो, सहायता पहुंचाई जाए।

मंत्रालय ने एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा, ‘राज्य सैनिक बोर्ड, जिला सैनिक बोर्ड अधिक से अधिक संख्या में सेवानिवृत्त सैनिकों को जुटाने में महत्वपूर्ण योगदान दे रहे हैं ताकि ये राज्य और जिला प्रशासन को लोगों तक पहुंचने में सहायता कर सकें। इसमें संपर्क का पता लगाना, सामुदायिक निगरानी, पृथक केंद्र का प्रबंधन और उनको दिया जाने वाला कार्य शामिल है।’

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार अब तक 1965 लोग इस वायरस से संक्रमित हो चुके हैं और 50 लोगों की मौत हो चुकी है। मंत्रालय ने बताया कि पंजाब में ‘गार्डियन्स ऑफ गवर्नेंन्स’ नाम के संगठन में 4,200 सेवानिवृत्त सैनिक हैं और वे सभी गांवो से आंकड़े जुटाने में मदद कर रहे हैं।

छत्तीसगढ़ सरकार ने भी ईएसएम को पुलिस की सहायता के कार्य में लगाया है और इसी तरह से आंध्र प्रदेश में भी जिला कलेक्टरों ने ईएसएम स्वयंसेवियों से सहायता मांगी है।

इसी तरह से उत्तर प्रदेश में सभी ‘जिला सैनिक कल्याण अधिकारी’ जिला नियंत्रण कक्ष के संपर्क में हैं। वहीं सेवानिवृत्त आर्मी मेडिकल कॉर के कर्मियों की भी पहचान की गई है और उन्हें तैयार रखा गया है। मंत्रालय ने बताया कि उत्तराखंड में सैनिक विश्राम गृहों को भी पृथक केंद्र में इस्तेमाल करने के लिए तैयार किया जा रहा है।