चिकबल्लापुर में मृत पाए गए 60 पक्षी

प्रतीकात्मक चित्र। फोटो स्रोतः PixaBay
प्रतीकात्मक चित्र। फोटो स्रोतः PixaBay

चिकबल्लापुर/दक्षिण भारत। कोरोना वायरस के साथ बर्ड फ्लू के खतरे के बीच केंद्र सरकार ने अब तक कुल 10 राज्यों में बर्ड फ्लू मिलने की पुष्टि की है। ऐसे में एवियन इन्फ्लूएंजा यानी बर्ड फ्लू को लेकर कर्नाटक हाई अलर्ट पर है।

चिकबल्लापुर में गौरीबदनूर तालुक के कदलावनी गांव में एक टंकी के किनारे और पास के पेड़ों पर 60 से अधिक क्रेनों (सारस) के मृत पाए जाने के बाद उनमें बर्ड फ्लू की आशंका तेज हो गई।

ग्रामीणों ने पक्षियों के दर्जनों शवों को देखा और तुरंत पशु चिकित्सा विभाग के अधिकारियों को सूचित किया जिसके बाद मौके पर पहुंचकर अधिकारियों ने नमूने एकत्र किए।

अधिकारियों ने बताया कि नमूनों को जांच के लिए बेंगलूरु भेजा गया है और रिपोर्ट मिलने के बाद आगे उचित कदम उठाया जाएगा।

उन्होंने कहा कि अभी तक राज्य में बर्ड फ्लू का कोई मामला सामने नहीं आया है इसलिए हम इन प्रवासी पक्षियों की मौत का कारण पता लगा रहे हैं। हालांकि, एहतियात के तौर पर शवों को पूरी सुरक्षा के साथ दफनाया गया है।

हालांकि प्रारंभिक जांच में यह पाया गया है कि कुपोषण या रानीखेत रोग के कारण पक्षियों की मौत हो सकती है। पिछले हफ्ते भी गोपालकृष्ण अमानी टैंक के पास कुछ क्रेन मृत पाए गए थे। उनके नमूने जांच के लिए भेजे गए थे जिनमें बर्ड फ्लू नहीं पाया गया था।